Essay On Beauty Of Nature In Hindi

Beauties of Nature

Or

Nature—A Storehouse of Joy

 

Nature never did betray

                The heart that loved her; lis her privilege

                Through all the years of this our life, to lead

                                                                                       From joy to joy                                                                                                                    

—- Wordsworth

                Wordsworth, a staunch lover of nature, believed that nature is a storehouse of joy and pleasure.  It is an everflowing fountain of divine beauty.  It is a friend, a guide and a nurse to man.  It has a healing touch of its own.  A ruined body or a broken mind find a lot of comfort and consolation in the lap of nature.  It provides a man with fresh energy and a new vigour.  It is a manifestation of the divine.

                Nature is full of beauties and blessings for humanity.  The flowing rivulets, the sounding cataracts, the dancing winds, the smiling flowers and the lofty mountains are only some of these beauties.  Nature can fill our lives with real joy, goodness and happiness.  To a lover of nature, every object, of nature is as much living as any human being.  That is why Wordsworth wrote: “there is a spirit in the woods.”

                Beauties of nature are unlimited.  But unfortunately, the modern man is too much engrossed in worldly pursuits.  He is too busy to discover the beauties of nature.  He has not time to listen to the singing of the birds, to watch the clouds moving majestically across the sky or to play with the dancing daffodils.  He does not look at the starry heavens; he is dead to the beauty of a rainbow in the sky.  He has sold his heart away to Mammon the god of wealth. Wordsworth rightly laments:

                “The world is too much with us.  Late and soon,

                Getting and spending, we lay waste our powers.

                Little do we see in Nature that is ours.”

                We must open our inward eyes and ears.  Then only can we enjoy the sublime sights and sounds of nature —  otherwise we shall be like a man who goes to the river Ganges with a bowl full of holes.  Only a simple heart can enjoy the beauty of nature.  These beauties please us not only at the moment of seeing but they continue to thrill us even afterwards. Wordsworth once saw a crowd of daffodils waving and tossing their head in sprightly dance.  The sight filled his heart with joy.  The poet felt that he had acquired a great treasure.  He says:

                ‘For oft when on my couch I lie,

                In vacant or in pensive mood

                They flash upon that inward eye

                Which is the bliss of solitude.’

 

                Keats saw beauty even in autumn.  The beautiful word picture of the harvested with scythe in his hand, drowsy under the influence of poppies, is immortal.  The poet could enjoy music in the swallow’s twitters and cricket’s songs.  Who says that only spring has its songs? Autumn has its songs too, as beautiful as those of spring.

                Nature is not only a source of joy, it is also a source of joy, it is also a source of education.  The fruitful trees teach us to be humble; the mountains teach us to be firm; the flowers teach us to smile and blossom even when we are surrounded by the thorns of life.  Wordsworth rightly said:

                “One impulse from the vernal wood

                May teach us more of man,

                Of moral evil and of good

                Than all the sages can.”

 

                A keen observer of nature can certainly find tongues in trees, books in brooks, sermons in stones and good in everything.

                Nature is a source of joy to us because it reveals the oneness of life.  Nature is a manifestation of God.  Nature is permeated with the same soul that dwells in man. There is a kinship between man and nature.  Love of nature is, therefore, natural in man.  A man who does not love nature is heretic because he refuses to recognize God who is all powerful and all pervading.

August 13, 2015evirtualguru_ajaygour10th Class, 9th Class, Class 12, English (Sr. Secondary), English 12, Languages9 CommentsEnglish 10, English 12, English Essay Class 10 & 12, English Essay Graduation

About evirtualguru_ajaygour

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

Friends  आप सबको प्रकृति  और मनुष्य का क्या relation है ये तो पता ही होगा । पर मै आज आपसे मनुष्य और प्रकृति  के एक अलग ही relationship के बारे मे बात करूँगा। और वो रिलेशन है Teacher और  Student का । जी हाँ , प्रकृति  ही हमारी सबसे बड़ी Teacher है। ये हमे हर पल कुछ न कुछ सीखाती रहती है बस जरूरत है तो थोड़ा ध्यान देने का । आज तक मनुष्य ने जो कुछ भी हासिल किया है वो प्रकृति  से सीख लेकर ही किया है। न्यूटन को gravity का पाठ प्रकृति  ने ही सीखाया है। कई अविष्कार भी प्रकृति  से प्रेरित है। इन सबके अलावा प्रकृति  हमे ऐसे गुण भी सीखाती है जिससे हम अपने जीवन मे सकारात्मक परिवर्तन ला सकते है और इसे बेहतर बना सकते हैँ। वैसे इसकी List तो बहुत लम्बी हो सकती है पर मै यहाँ ऐसी 5 चीजे ही share कर रहाँ हूँ जो हम प्रकृति  से सीख सकते है:

1) पतझड़ का मतलब पेड़ का अंत नही :

कभी-कभी हमारे साथ कुछ ऐसा घटित हो जाता है जिससे हम बहुत low महसूस करते है। ऐसा लगता है जैसे अब सब कुछ खत्म हो गया इससे कई लोग  depression मे चले जाते है तो कई लोग बड़ा और बेवकूफी भरा कदम उठा लेते है जैसे आत्महत्या पर जरा सोचिये पतझड़ के समय जब पेड़ मे ऐक भी पत्ती नही बचती है तो क्या उस पेड़ का अंत हो जाता है? नही। वो पेड़ हार नही मानता नए जीवन और बहार के आश मे खड़ा रहता है। और जल्द ही उसमे नयी पत्तियाँ आनी शुरू हो जाती है, उसके जीवन मे फिर से बहार आ जाती  है। यही प्रकृति  का नियम है। ठीक ऐसे ही अगर हमारे जीवन मे कुछ ऐसे destructive पल आते है तो इसका मतलब अंत नही बल्की ये इस बात का इशारा है कि हमारे जीवन मे भी नयी बहार आयगी। अत: हमे सबकुछ भूलकर नयी जिन्दगी की शुरूआत करनी चाहिये। और ये विश्वास रखना चाहिए कि नयी जिन्दगी पुरानी से कही बेहतर होगी।

2) कमल किचड़ मे भी रहकर अपना अलग पहचान बनाता है :

ये मेरी  favorite line है। यही बात मुझे बुराई के बीच रहकर भी अच्छा करने के लिये प्ररित करती है। जिस तरह कमल कीचड़ मे रहकर  भी अपने अंदर कीचड़ वाले गुण विकसित नही होने देता है उसी तरह चाहे हमारे आस-पास कितनी ही बुराईयाँ हो पर उसे अपने अंदर पनपने नही देना चाहिये। हमे अपना अलग पहचान बनाना चाहिये।

3) नदी का बहाव ऊँचाई से नीचे की ओर होता है : 

जिस तरह से नदी मे पानी का बहाव ऊँचे level से नीचे  level की ओर ही होता है उसी तरह हमारी जिन्दगी मे भी प्रेम भाव का प्रवाह बड़े से छोटे की ओर होता है इसलिये हमे कभी भी अपने आप को दूसरो के सामने ज्ञानवान या बड़ा बताने की जरूरत नही है और इससे कोई फायदा भी तो नही है उल्टा प्रेम भाव हम तक बहकर नही आयेगा।

4) ऊँचे पर्वतों मे आवाज का परावर्तन:

  जब कोई पर्वत की ऊँची चोटी से जोर से आवाज लगाता है तो वही आवाज वापस लौटकर उसी को सुनाई देती है । विज्ञान मे इस घटना को echo कहते है पर यही नियम हमारे जीवन मे भी लागू होता है। हम वही पाते है जो हम दूसरो को देते है। हम जैसा व्यवहार दूसरो के लिये करते है वही हमे वापस मिलता है यदि हम दूसरो का सम्मान करते है तो हमे भी सम्मान मिलेगा। यदि हम दूसरो के बारे मे गलत भाव रखेँगे तो वो वापस हमे ही मिलेगा। अत: आप जैसा भी व्यवहार करे याद रखिये कि वो लौटकर आपको ही मिलने वाला है।

5) छोटे पौधो के अपेक्षा विशाल पेड़ को तैयार होने मे ज्यादा समय लगता है:

 जिस तरह विशाल पेड़ को तैयार होने मे ज्यादा समय लगता है उसी तरह हमारे महान लक्ष्य को भी पूरा होने मे समय लगता है। लेकिन कुछ लोग धैर्य नही रख पाते और अपना काम बीच मे ही छोड़ देते है। ऐसा करने वाले को बाद मे पछतावा ही मिलता है। So, बड़े लक्ष्य मे सफलता के लिये कड़ी मेहनत के अलावा धैर्य की भी आवश्यकता होती है।

दोस्तों , आइये हम भी प्रकृति से मिली इन सीखों को अपनी लाइफ में follow करें और एक बेहतर दुनिया का निर्माण करें.

All the best.

Pritam Kant

Student of BE 1st year.

Bilaspur ,  Chhattisgarh

इन रिलेटेड पोस्ट्स को भी ज़रूर पढ़ें :

I am grateful to Mr. Pritam Kant for sharing this inspirational Hindi article on Nature with AKC.

प्रीतम कान्त जी द्वारा कंट्रीब्यूट किये गए अन्य  लेख पढने के लिए यहाँ क्लिक करें .

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:[email protected].पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

Filed Under: Hindi Essay, Personal Development, Self Improvement, Success, हिंदी निबंधTagged With: Nature, Pritam Kant, प्रकृति

Categories: 1

0 Replies to “Essay On Beauty Of Nature In Hindi”

Leave a comment

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *